मेरे साथी:-

Tuesday, January 17, 2012

वो एक ख्वाब था

वो एक ख्वाब था ।
पर जो भी था, लाजवाब था ।

चंद लम्हों को आया था,
मुस्कुराहट भी लाया था ।
अंधेरे में एक किरण बनकर,
मृत शरीर में जीवन बनकर ।
जीवन के अगणित सवालों के बीच,
कई फलसफों का वो जवाब था,
वो एक ख्वाब था ।

अश्रु को मोती में बदलता,
तमस को ज्योति में बदलता ।
अपनेपन का पाठ पढ़ाता,
जीवन के हर गुर सीखाता ।
सुखे हुए सुमनों के बीच,
खिलता हुआ वो गुलाब था ।
वो एक ख्वाब था ।

वो एक ख्वाब था ।
दो पल का ही सही, वो एक रुबाब था ।
वो एक ख्वाब था ।

20 comments:

  1. Replies
    1. धन्यवाद विक्रम जी | आपका ब्लॉग भी घूम आया |

      Delete
  2. बहुत सुन्दर ! हर आँख ऐसा ख्वाब देखे यही दुआ है !

    ReplyDelete
  3. वाह ! क्या सुन्दर ख्बाव था...

    सपने सपने कब हुए अपने ...परन्तु देखने में क्या है...अवश्य देखने चाहिये....अन्यथा उन्हें पूरे करने की प्रेरणा कैसे मिलेगी...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब
    ख्याबो को ख्याब ही रहने दो
    तभी वो हसीन लगेंगे ......

    ReplyDelete
  5. वाह!
    बहुत बढ़िया!
    अपनी सुविधा से लिए, चर्चा के दो वार।
    चर्चा मंच सजाउँगा, मंगल और बुधवार।।
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार शास्त्री जी |

      Delete
  6. वाह !! एक अलग अंदाज़ कि रचना ......बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय जी.. बहुत दिनों बाद आना हुआ आपका ..

      Delete
  7. ख्वाब और ख्याल - दोनों अच्छे लगे

    ReplyDelete
  8. Replies
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद रीना जी अफ्ली बार मेरे ब्लॉग में आने के लिए | इसी तरह आते रहे और अपनी राय से अवगत करते रहें |

      Delete
  9. bahut sundar likha hai. kuchh khwaab hote hi eyse hain bhale hi pal bhar ke liye aayen dil me bas jaate hain.

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप