मेरे साथी:-

Wednesday, October 12, 2011

"पेड़ लगाओ, देश बचाओ !!"


"पेड़ लगाओ, देश बचाओ !!"

बहुत पुराना है नारा ;

हकीकतन इससे सबने

पर कर लिया किनारा |



वो औद्योगीकरण के नाम पे,

जंगल के जंगल उड़ाते हैं;

पेड़ काट के नई इमारतों का,

अधिकार दिए जाते हैं |



नीति कुछ ऐसी है-

"जंगल हटाओ, विकास रचाओ !" 

पर कहते हैं जनता से,

"पेड़ लगाओ, देश बचाओ !!"

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति, बधाई

    ReplyDelete
  2. अच्छी प्रस्तुति!
    अरे भैय्या जी कितनी जगह लगा दी आपने यह पोस्ट?

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति |
    हमारी बधाई स्वीकारें ||

    neemnimbouri.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद शुक्ला जी | आभार |

    ReplyDelete
  5. शास्त्री जी आभार | एक जगह ज्यादा पाठक आते नहीं इसलिए ज्यादा जगह लगा दिया | 2-3 भी आयेंगे एक जगह तो कुल 10 से ज्यादा हो जायेंगे |

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर कविता है...सुंदर सन्देश लिए ....

    ReplyDelete
  7. भाव शानदार हैं. करारा प्रहार है.

    दुनाली पर आएं, आपका स्‍वागत है-
    पिगविजय की चिट्ठी पहुंची भालेगण सिद्धी

    ReplyDelete
  8. चैतन्य जी आभार | इसी तरह ब्लॉग में आते रहें |

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप