मेरे साथी:-

Wednesday, August 24, 2011

सुनो ऐ सरकार !!

भ्रष्टाचारियों की हुई भरमार,
त्रस्त कर गया जब भ्रष्टाचार,
अन्ना ले आये गाँधी का अवतार,
जाग गया युवाओ का संसार,
जनता चली संग करने आर या पार;
माँगे उठाई हमने असरदार,
पर मौन है बैठा मन"मौन" सरदार,
कर्महीन ये निकम्मी सरकार;
आफत में पड़े देश के गद्दार,
क्या होगा अब सोच रहे मक्कार,
लूट जो जायेगा उनका बाजार;
पर हमे है देश से सरोकार,
करते रहेंगे वार पे वार,
जब तक जनलोकपाल न ले आकार;
अहिंसा ही है हमारा आधार,
दिखायेंगे हम एकता अपार;
सुन लो ऐ सोई सरकार !
न बनो भ्रष्टाचार का पहरेदार,
मान लो माँगे और समझ लो सार |

12 comments:

  1. sarthak rachna..... likhte rahiye :)

    ReplyDelete
  2. विचारवान कविता,आभार.

    ReplyDelete
  3. शास्त्री जी धन्यवाद आपका |

    ReplyDelete
  4. पंख जी आपका भी बहुत धन्यवाद |

    ReplyDelete
  5. Ankit pandey जी ब्लॉग में आने के लिए धन्यवाद | इसी तरह आते रहिये |

    ReplyDelete
  6. bahut sundar abhivyakti...badhaaiii

    ReplyDelete
  7. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (६) के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप आयें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएँ /आप हिंदी के सेवा इसी तरह करते रहें ,यही कामना हैं /आज सोमबार को आपब्लोगर्स मीट वीकली
    के मंच पर आप सादर आमंत्रित हैं /आभार /

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप