मेरे साथी:-

Tuesday, October 22, 2013

दिल की हरियाली

(मेरी डायरी से- ये मेरी दूसरी कविता है जो मैंने तब लिखी थी जब मैं दसवीं कक्षा में था |)

कहने लगे कुछ भी न हुआ,
ये दिल जानता है बहुत कुछ हुआ;
न सोचा कभी था वैसा भी हुआ,
है अधर में कुछ बात ऐसा अटका हुआ |

पेड़ गिरने लगे, जल भी सूखने लगा,
हरियाली न पूछो वह तो मिट सा गया;
फूल भी अब डालों से गिरने लगे,
गिर सपनो को आहत वह करता गया |

एक ऐसा समय था जब थे वे हरे,
हरा था समां दिल भी था कुछ खिला;
ऐसा लगता था जैसे ऐसे ही रहे,
आगे का सफ़र भी मैं चलता चला |

वो मौसम था ऐसा सब थे हँसते हुए,
जरा-सा भी दुःख कहीं भाता न था;
फल भी मैं चखुंगा कुछ दिन है हुए,
ऐसा विश्वास भी था जो हिलता न था |

एक ऐसा हवा का झोंका चला,
पेड़ों से सब पत्तों को लेता चला;
गिर पेड़ों से सपना मिटटी में जा मिला,
कुछ क्षणों में समां धुंधला हो चला |

सब देखते रहे सब ख़तम हो गया,
सारी हरियाली में काला रंग चढ़ गया;
मैं गया जो उन पेड़ों के नजदीक में,
देख दुःख उनका भूल अपना गया |

मिल सकेंगे न फिर इस जग में कभी,
पेड़-पत्ते ऐसे ही जुदा हो गए;
न गलती है मेरी न उसकी सुनो,
प्राण रहते भी पत्तों सा निष्प्राण हुए |

सारे जग में हमेशा ऐसा ही हुआ,
पत्ते-पेड़ों से ऐसे ही झड़ते ही हैं;
दिल की हरियाली भी एक दिन मिटती ही है,
जो मिलते हैं एक दिन बिछड़ते भी हैं |

कथा हरियाली की ऐसे चलती ही है,
पेड़ों का ये हरा रंग भी उड़ जाता है;
परिवर्तन तो दुनिया में होता ही है,
फिर पत्तों को पा पेड़ खिल जाता है |

पेड़ों की छोड़ दो और लोगों की लो,
कोई रोता है तो कभी हँसता भी है;
पर पहला कभी कुछ जो खो जाता है,
लाख मिलने पर भी पहला मिलता न है |

20.04.1999

4 comments:

  1. मैं गया जो उन पेड़ों के नजदीक में,
    देख दुःख उनका भूल अपना गया |

    बहुत सुन्दर कविता
    नई पोस्ट मैं

    ReplyDelete
  2. कथा हरियाली की ऐसे चलती ही है,
    पेड़ों का ये हरा रंग भी उड़ जाता है;
    परिवर्तन तो दुनिया में होता ही है,
    फिर पत्तों को पा पेड़ खिल जाता है |

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  3. कथा हरियाली की ऐसे चलती ही है,
    पेड़ों का ये हरा रंग भी उड़ जाता है;
    परिवर्तन तो दुनिया में होता ही है,
    फिर पत्तों को पा पेड़ खिल जाता है |

    बहुत उम्दा अभिव्यक्ति ,,,!
    RECENT POST -: हमने कितना प्यार किया था.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (23-10-2013)   "जन्म-ज़िन्दग़ी भर रहे, सबका अटल सुहाग" (चर्चा मंचःअंक-1407)   पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप