मेरे साथी:-

Friday, October 18, 2013

झारखण्ड की सैर

झारखण्ड का नक्शा
तू चल मेरे साथ, मैं तुझे झारखण्ड की सैर कराता हूँ,
भारत भूमि के एक अभिन्न अंग के बारे में बतलाता हूँ |
बिरसा मुंडा की प्रतिमा, बोकारो
ये बिरसा भगवान् की भूमि, सिद्धू-कान्हू की धरती यह,
प्रकृति की छटा है अनुपम, खनिज-सम्पदा की धरती यह |
हुंडरू जल-प्रपात, रांची
गोद में बैठी प्रकृति की, राजधानी रांची है यहाँ की,
जल-प्रपातों का यह शहर, जलवायु खुशनुमा जहाँ की |
बैद्यनाथ धाम मंदिर, देवघर
देवघर का शिवलिंग
यह देखो ये बैद्यनाथ धाम, जो देवघर भी कहलाता है,
शिव-शंकर के ज्योतिर्लिंग से पावन धाम सुहाता है |
टाटा इस्पात कारखाना का दृश्य
इस्पातों के एक शहंशाह जमशेद जी ने जो बसाया है,
ये जमशेदपुर, टाटा नगर जो विश्व पटल पर छाया है |
बोकारो इस्पात संयंत्र
इस्पातों की एक और है नगरी, बोकारो इस्पात नगर यह,
फले-फुले कई उद्योग-धंधे, भले मानुषों का शहर यह |
कोयले की खान, धनबाद
आई.एस.एम., धनबाद
देश की कोयला राजधानी चलो, नाम ही जिसका धनबाद है,
आई.एस.एम. के लिए प्रतिष्ठित, कोयला खानों से आबाद है |
माँ छिन्नमस्तिके मंदिर, रजरप्पा
देवडी मंदिर
रजरप्पा में छिन्नमस्तिके, देवडी में माँ का मंदिर साजे,
मधुबन में है जैन तीर्थालय, हरिहर धाम में शिव विराजे |
हरिहर धाम, गिरिडीह
मधुबन
दामोदर और स्वर्णरेखा नदी, झारखण्ड की पहचान है,
कई बांध और कई परियोजना, बढ़ाते हमारी शान है |
कांके डैम, रांची
कर्क रेखा हृदय से गुजरता, कई उच्च पथ से जुड़ा यह,
ग्रैंड ट्रंक है जान यहाँ की, देश के हर कोने से जुड़ा यह |
वन्यजीव अभ्यारण्य विशाल है, वन धरती हजारीबाग में,
पहाड़ियां और कई झीलें हैं, बस जाये जो दिल के बाग़ में |
मैथन डैम
तिलैया डैम
झुमरी तिलैया डैम है मोहक, तेनु, कोनार, मैथन बाँध भी,
खंडोली और चांडिल डैम भी, कांके और पंचेत बाँध भी |
चांडिल डैम
उर्वरक फैक्ट्री सिंदरी बंद, गोमिया में बारूद कारखाना,
हटिया में भारी मशीन तंत्र और कांके में है पागलखाना |

तेनुघाट डैम
पतरातू व् चन्द्रपुरा सहित यहाँ कई विद्युत् के निकाय हैं,
यहाँ की बिजली, कई जगह रोशन पर खुद ही असहाय है |
बोकारो थर्मल पॉवर स्टेशन
राजभाषा है हिंदी पर खोरठा, हो, मुंडा, संथाली भी,
बंगला, ओडिया, उर्दू भी कई रंग की यहाँ बोली भी |
टुसू पर्व का दृश्य
टुसू, कर्मा, सरहुल, सोहराय और गोबर्धन पूजे जाते हैं,
माँ मनसा व भोक्ता पूजा, हर देव-देवी यहाँ पूजे जाते हैं |
माँ मनसा
वन्य भूमि ये, देव भूमि ये, "दीप" मैं सबको समझाता हूँ,
तू चल मेरे साथ, मैं तुझे झारखण्ड की सैर कराता हूँ |


सभी चित्र गूगल से साभार 

27 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (19-10-2013) "शरदपूर्णिमा आ गयी" (चर्चा मंचःअंक-1403) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. waah bahut badhai raha yah safar , ghar baithe jharkhand ghum liye ham , badhai .sundar prastutikaran.

      Delete
  2. वाह बहुत सुन्दर सैर, मेरा तो घर ही है इन वादियों में फिर भी बहुत सुन्दर तस्वीरे ..:

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर चित्रात्मक सैर. इनमें से कई स्थानों को अच्छी तरह देखा है .

    ReplyDelete
  4. झारखंड की सैर कर के आनंद आ गया। मेरे भाई एक रांची में एक टाट नगर में थे और भांजा बोकारो में है। तो सब जाना पहचाना सा लगा।

    ReplyDelete
  5. सुहाना सफ़र,-----बिम्ब ,प्रतिबिम्ब्ब ,ध्वनि ,प्रतिध्वनि को समेटे सुन्दर प्रस्तुति है

    ReplyDelete
  6. कांके का पागल खाना और
    पतरातू का थर्मल का जिक्र रह गया
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय विभा जी, वैसे तो बहुत सी चीज़ें रह गई हैं, और सबको समेट पाना मुमकिन भी नहीं है | फिर भी आपके सुझाये जगहों को जोड़ने की कोशिस की है | आभार |

      Delete
  7. बेहद सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  8. साहनी जी आपनें तो पुरे झारखंड की सैर घर बैठे करवा दी !!
    आभार !!

    ReplyDelete
  9. जानकारी देते हुए सुंदर चित्रों के बेहतरीन प्रस्तुति !

    RECENT POST : - एक जबाब माँगा था.

    ReplyDelete
  10. main ranchi say hu.....apne sheher kay bare mey padh aur dekh kar garv ho raha hai....

    ReplyDelete
  11. झारखण्ड की मनोरम सैर कराने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. बढ़िया गाइड बने हैं आप

    ReplyDelete
  13. wahhh sundar prastuti ..jharkhand ki kai jagaho ke baare me to janti thi pahle se kayi nyi jagah aapne dikha di .. thnx :)

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!झारखण्ड की मनोरम सैर कराने के लिए आभार

    ReplyDelete
  15. ye post padhkar mujhe apne jharkhand ki yaad aa gayi
    bahut sundar
    mere blog par aapka swagat hai..

    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete
  16. वाह... पुरे झारखण्ड की सैर... अद्भुत ..दीपावली की सुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  17. jhadkhand ka sundar parichay prastut kiya hai aapne .aabhar

    ReplyDelete
  18. झारखंड की सैर वाकई बहुत बढ़िया , चित्रों के साथ सुन्दर प्रस्तुती !

    ReplyDelete
  19. इस पोस्ट की चर्चा आज सोमवार, दिनांक : 21/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -31पर.
    आप भी पधारें, सादर ....नीरज पाल।

    ReplyDelete
  20. एक यात्रा को रचना के साथ व्यक्त करना वाह----गजब
    आपने झारखंड की सैर करा दी ,सुंदर चित्र संयोजन
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  21. आज नेटवर्क की सुविधा उपलब्ध होने पर उपस्थित हूँ ! काव्यात्मक यात्रा

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप