मेरे साथी:-

Wednesday, December 12, 2012

बारह, बारह, बारह


बारह, बारह, बारह का, अजब गज़ब संयोग |
यादगार सबके लिए, न हो कोई वियोग ||

कोई शादी कर रहा, कहीं जन्म की तैयारी |
शुरू करे कोई नए काम, कोई करे ख़रीदारी ||

जीवन में उमंग रहे, खुशियाँ रहे हर पल |
सब कोई बाँटे मुस्कान, हँसते रहो पल-पल ||

सफल सबके काम हो, यही करूँ मैं कामना |
हे ईश्वर आशीष दे, हाथ सबका थामना ||

7 comments:

  1. बारह, बारह, बारह का, अजब गज़ब संयोग |
    यादगार सबके लिए, न हो कोई वियोग ||

    वाह ,,, बहुत उम्दा,लाजबाब अद्भुत संयोग ....

    recent post: रूप संवारा नहीं,,,

    ReplyDelete

  2. बारह, बारह, बारह का, अजब गज़ब संयोग
    :)
    वाऽह ई. प्रदीप कुमार साहनी जी !
    संयोग बनने के साथ ही !! अच्छा है …

    शुभकामनाओं सहित…


    #
    12-12-12 के अद्भुत् संयोग के अवसर पर लीजिए आनंद , कीजिए आस्वादन वर्ष 2012 के 12वें महीने की 12वीं तारीख को
    12 बज कर 12 मिनट 12 सैकंड पर शस्वरं पर पोस्ट किए मेरे लिखे 12 दोहों का

    :)

    ReplyDelete
  3. 12/12/12 पर ये भी बहुत अच्छा है।
    आभार !!

    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है  बेतुकी खुशियाँ

    ReplyDelete
  4. खुबसूरत अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  5. और वो पल कुछ ही पलों में बीत भी गया अतीत बन कर

    ReplyDelete
  6. "बारह, बारह, बारह का, अजब गज़ब संयोग|
    यादगार सबके लिए, न हो कोई वियोग|"

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप