मेरे साथी:-

Sunday, December 16, 2012

गम लिया करते हैं

दाव में रखकर अपनी जिंदगी को हर वक़्त हर घड़ी,
सहम-सहम के लोग आज ये जिंदगी जिया करते हैं |

सौ ग्राम दिमाग के साथ दस ग्राम दिल भी नहीं रखते लोग,
विरले हैं जो आज भी हर फैसला दिल से किया करते हैं |

बच्चे को आया के हवाले कर, पिल्ले को रखते हैं गोद में,
कहते हैं आज के बच्चे माँ-बाप का साथ नहीं दिया करते हैं |

एक दिन फेंकी थी तुमने जो चिंगारी मेरे घर की ओर,
आग बना कर उसे हम आज भी हवा दिया करते हैं |

अपनी अपनी कर के जी लेते हैं जिंदगी किसी तरह,
स्वार्थ की बनी चाय ही सब हर वक़्त पिया करते हैं |
अब तो ये चाँद भी आता है लेकर सिर्फ आग ही आग,
फिर क्यों सूरज से शीतलता की उम्मीद किया करते हैं |

सब हैं खड़े यहाँ कतार में जख्म देने के लिए ऐ "दीप",
कोई भरता नहीं हम खुद ही जख्मों को सिया करते हैं |

अपना तो जिंदगी जीने का फंडा ही अलग है ऐ "दीप",
कोशिश रहती खुशियाँ देने की और गम लिया करते हैं |

12 comments:

  1. अपना तो जिंदगी जीने का फंडा ही अलग है ऐ "दीप",
    कोशिश रहती खुशियाँ देने की और गम लिया करते हैं |

    Bahut khoob !

    ReplyDelete
  2. बच्चे को आया के हवाले कर, पिल्ले को रखते हैं गोद में,
    कहते हैं आज के बच्चे माँ-बाप का साथ नहीं दिया करते हैं |

    एक दिन फेंकी थी तुमने जो चिंगारी मेरे घर की ओर,
    आग बना कर उसे हम आज भी हवा दिया करते हैं |


    वाह ... एक एक शेर आपकी छाप छोड़ते हैं .. बहुत ही शानदार गजल।

    मेरी नई कविता आपके इंतज़ार में है: नम मौसम, भीगी जमीं ..

    ReplyDelete
  3. बहुत सराहनीय प्रस्तुति. आभार. बधाई आपको

    ReplyDelete
  4. प्रशंसनीय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 18/12/12 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका इन्तजार है

    ReplyDelete
  6. सब हैं खड़े यहाँ कतार में जख्म देने के लिए ऐ "दीप",
    कोई भरता नहीं हम खुद ही जख्मों को सिया करते हैं |.

    बेहतरीन अभिव्यक्ति,प्रशंसनीय रचना,,,,बधाई प्रदीप जी,,,

    recent post: वजूद,

    ReplyDelete
  7. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  8. वाह ... क्या बात है .. लाजवाब शेर ...

    ReplyDelete

  9. आज की रहनी सहनी पे तंज करती बढती है यह सांगीतिक गजल .

    ReplyDelete
  10. परिवर्तन पसंद आया --- जय हिंदी!

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप