मेरे साथी:-

Wednesday, July 1, 2015

पिता

वट वृक्ष सा खड़ा हुआ वह शख्स पिता कहलाता है,
सामने हर संकट के होता, जो संतान पे आता है..

जिम्मेदारी के बोझ तले वो दब अक्सर ही जाता है,
हर भावों से भरा हृदय पर भावशून्य दर्शाता..

संतान के सुख में खुश होता, संतान के गम में रोता है,
माँ रो लेती फूट कर कभी, पिता सुबक रह जाता है..

हर अपनों की हर एक खुशी ढूँढ ढूँढ कर लाता है,
हर कष्टों को कर समाहित, कष्टरहित कर जाता है..

ऊँगली धर चलना सिखलाता, काँधे पे भी बिठाता है,
हर डाँट में थपकी होती, जीना वही सिखाता है..

हर मोड़ पर राह दिखाता, वो इस जनम का दाता है,
वट वृक्ष सा खड़ा हुआ वह शख्स पिता कहलाता है...

3 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, मुसकुराते रहिए और स्वस्थ रहिए - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. मन कि भावनाओं को सुन्दर शब्दों से सजाया है

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप