मेरे साथी:-

Monday, June 18, 2012

दस्तक मॉनसून की

पड़ चुकी है दस्तक
मॉनसून की यारों;
घटायें हर तरफ अब
घिरने लगी हैं |

हर वर्ग हर शख्स
था इंतज़ार में इसके;
मौसम के कोप से
निजात था पाना |

अमीर थे सोचते 
कि मौसम होगा ठंढा;
ए.सी. नहीं चलेगा
तो बिजली बिल बचेगा |

गरीब था सोचता
कि बारिश जो होगी;
बाल-बच्चे परिवार
कुछ चैन से रहेंगे |

किसान का सर्वस्व तो 
मॉनसून पे ही निर्भर;
जो बारिश न हुई तो
सब कुछ लूट जायेगा |

जो लूटने में लगे हैं
हर माह उनका मॉनसून है;
इन्तजार तो हिस्सा है
बस आम जनता का ही |

बारिश की बूंदें अब
भिगोने है लगी;
प्यास हर किसी की 
है मिटाने में लगी |

झर-झर करती बूंदें
खुशहाल करती जिंदगी;
हर दिल को हर्षाती
दस्तक ये मॉनसून की |

2 comments:

  1. बहुत बेहतरीन सुंदर रचना,,,,,बधाई पदीप जी,,,,

    RECENT POST ,,,,,पर याद छोड़ जायेगें,,,,,
    RECENT POST ,,,,फुहार....: न जाने क्यों,

    ReplyDelete
  2. मानसून के आगमन पर शुभकामनाएं

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप