मेरे साथी:-

Wednesday, April 16, 2008

नज़र न लग जाए कहीं

मासूम से तेरे इस चेहरे को
किसी की नज़र न लग जाए कहीं,
झुक गई तेरी ये पलकें अगर,
सुबह में ही शाम न हो जाए कहीं |

चलती हो क्यों यूं बलखा के तुम,
रास्ते भी पागल न हो जाए कहीं,
कह दो हवा से न छेड़े इन जुल्फों को,
बादल यहाँ न छा जाए कहीं |

होठों की लाली होठों में ही रहे,
छलक कर बाहर न आ जाए कहीं,
झटकों मत अपने बालों को इस तरह,
बिन मौसम बरसात न हो जाए कहीं |

हूर से हुश्न के दीदार के लिए,
आसमान भी ज़मीन पे न उतर आए कहीं,
देखकर तेरी ये अल्हड़ अठखेलियाँ
पत्थर में भी जान न आ जाए कहीं |

झील सी तेरी इन आंखों में कोई,
डूबकर ख़ुद को ही न खो जाए कहीं,
न लो मस्ती में यूं अंगदाइयां,
जमाना ये सारा न मचल जाए कहीं |

साथ में तेरी मीठी मुकुराहट के,
ज़मीन पे फूल भी न बरस जाए कहीं,
देखकर बिंदिया माथे की तेरी,
पूनम का चाँद भी न शर्मा जाए कहीं |

चांदनी सी धवल ये रंगत तेरी,
फिजा में उड़कर न बिखर जाए कहीं,
हिरणी सी तेरी इस चाल को देख,
चलना ही सब न भूल जाए कहीं |

अनमोल ये हुश्न तेरा लगता है जैसे,
बदन से भी बाहर न चू जाए कहीं,
फूलों से नाजुक है तेरा बदन,
लचक न इसमे कभी आ जाए कहीं |

मत देखो मुझे इन मस्त निगाहों से,
दिल ये मेरा बेचैन न हो जाए कहीं,
मुस्कुराया न करो यूं देखकर मुझको,
सब्र का पैमाना न छलक जाए कहीं |

आँखों का काजल गालों पे लगा लो,
ज़माने की नज़र न लग जाए कहीं,
देखा न करो ख़ुद को आईने में कभी,
ख़ुद की ही नज़र न लग जाए कहीं |

1 comment:

  1. mast yaar. super hit.. purane din yaad aa gaye...

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप