मेरे साथी:-

Friday, January 25, 2013

कर तो लो आराम

रंजिश में ही बीत गई है तेरी तो हर शाम,
छुट्टी लेकर बैर भाव से, कर तो लो आराम |

आपा-धापी, भागम-भाग में,
ठोकर खाकर, गिर संभलकर,
कभी किसी की टांग खींचकर,
कभी गंदगी में भी चलकर |

यहाँ से वहाँ दौड़ के करते, उल्टे सीधे काम,
छुट्टी लेकर भाग-दौड़ से, कर तो लो आराम |

कभी किसी की की खुशामद,
कभी कहीं अकड़ कर बोले,
कभी कहीं पे की होशियारी,
कहीं-कहीं पे बन गए भोले |

बक-बक में ही गुजर गया, जीवन हुआ हराम,
छुट्टी लेकर शोर-गुल से, कर तो लो आराम |

वक्त बेवक्त अपनों की सोची,
सबके लिए बस लगे ही रहे,
झूठ-सच की करी कमाई,
पर पथ में तुम जमे ही रहे |

       अपनों के लिए पीते ही रहे, स्वाद स्वाद के जाम,
       कुछ वक्त खुद को भी देकर, कर तो लो आराम |

19 comments:

  1. वन्देमातरम् ! गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. वाह भई प्रदीप जी बढ़िया

    ReplyDelete
  3. छुट्टी लेकर बैर भाव से, कर तो लो आराम
    बहुत ही सार्थक रचना।

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति |
    आभार प्रदीप जी -

    गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भाव लिए रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना,,,प्रभावी अभिव्यक्ति,,,

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    recent post: गुलामी का असर,,,

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना हैँ प्रदीप जी

    ReplyDelete
  8. वाह .बहुत ही प्रभावशाली अभिव्यक्ति. हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  9. खुद के लिए भी ज़रा-सा जी लेने की बहुत अच्छी पेशकश...
    अपनों के लिए पीते ही रहे, स्वाद स्वाद के जाम,
    कुछ वक्त खुद को भी देकर, कर तो लो आराम |

    ReplyDelete
  10. बहुत ही बढ़िया ...

    ReplyDelete
  11. आपकी रचना लाजवाब है ...
    मेरे ब्लॉग पर भी आपका स्वगत है

    http://parulpankhuri.blogspot.in/

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर गीत .भाषिक स्तर पर भी ताजगी महसूस हुई .आभार हमें चर्चा में न्योंतने का .

    ReplyDelete
  13. बक-बक में ही गुजर गया, जीवन हुआ हराम,
    छुट्टी लेकर शोर-गुल से, कर तो लो आराम |
    - सब ओर यही तो चल रहा है!

    ReplyDelete
  14. bahut hi sunder rachna

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  15. बढ़िया प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  16. नवसंवत्सर की शुभकामनायें
    आपको आपके परिवार को हिन्दू नववर्ष
    की मंगल कामनायें

    aagrah hai mere blog main bhi sammlit hon khushi hogi

    ReplyDelete
  17. सुंदर प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप