मेरे साथी:-

Monday, February 13, 2012

यारों कुछ तो याद करो

कॉलेज के लिए

यारों कुछ तो याद करो,
रब से तुम फ़रियाद करो,
कॉलेज के जो रिश्ते हैं तुम उनको न बर्बाद करो |
यारों कुछ तो याद करो |

जगह-जगह से हम सब बन्दे PIET थे पहुंचे,
डरे-डरे से सहमे से थे, हम सब सारे बच्चे,
धीरे-धीरे हम सबका जो बना था वो याराना,
पल-पल पनपे उस पौधे को पल-पल अब आबाद करो |
यारों कुछ तो याद करो.... 

कॉलेज में था संग-संग रहना, संग-संग पढना-लड़ना,
संग-संग हरदम मस्ती करना, संग-संग हँसना-रोना,
संग-संग गप्पे करने की वो याद अभी है ताज़ी,
संग-संग के अपनी यादों को, दिल से न आज़ाद करो |
यारों कुछ तो याद करो.... 

अन्जाने उस जगह में भी जो प्यार मिला था सबका,
अन्जानों का साथ हुआ था अपनों जैसा पक्का,
चार वर्षों का सुखमय जीवन, चार वर्षों की यारी,
चार साल के सफ़र का अनुभव जेहन से तुम याद करो |
यारों कुछ तो याद करो.... 

मिल-जुल के था बंकिंग करना, मिल-जुल कैंटिन जाना,
मिल-जुल के कॉलेज के वक्त पे, दूर तक घुमने जाना,
मिल-जुल के ना जाने कितने कर डाले हड़ताल थे हमने,
मिल-जुल कर जो रखी थी हमने, याद तो वो बुनियाद करो ।
यारों कुछ तो याद करो.... 

कभी-कभी वो रेल का सफर, वो कैंपस की तैयारी,
बिना टिकट वो पकड़ा जाना, निभाना अपनी यारी,
तरह-तरह के ग्रुप बना था अपना जीवन जीना,
कभी-कभी जो बीत गए तल, उनपे वाद-विवाद करो ।
यारों कुछ तो याद करो.... 

यारों कुछ तो याद करो,
रब से तुम फ़रियाद करो,
कॉलेज के जो रिश्ते हैं तुम उनको न बर्बाद करो |
यारों कुछ तो याद करो |

नवोदय के लिए

यारों, कुछ तो याद करो,
रब से तुम फ़रियाद करो,
नवोदय के रिश्तें हैं जो, उनको न बर्बाद करो |

यारों, कुछ तो याद करो |

जगह-जगह से हम सब बन्दे नवोदय थे पहुंचे,
डरे-डरे से सहमे-से थे, हम सब सारे बच्चे,
धीरे-धीरे हम सबका जो बना था वो याराना,
पल-पल पनपे उस पौधे को पल-पल अब आबाद करो |
यारों, कुछ तो याद करो.... 

नवोदय में संग-संग रहना, संग-संग पढना-लड़ना,
संग-संग हरदम मस्ती करना, संग-संग हँसना-रोना,
संग-संग गप्पे करने की वो याद अभी है ताज़ी,
संग-संग के अपनी यादों को, दिल से न आज़ाद करो |
यारों, कुछ तो याद करो.... 

अन्जाने उस जगह में भी जो प्यार मिला था सबका,
अन्जानों का साथ हुआ था अपनों जैसा पक्का,
चार वर्षों का सुखमय जीवन, चार वर्षों की यारी,
चार साल के सफ़र का अनुभव जेहन से तुम याद करो |
यारों, कुछ तो याद करो.... 

यारों, कुछ तो याद करो,
रब से तुम फ़रियाद करो,
नवोदय के रिश्तें हैं जो, उनको न बर्बाद करो |
यारों, कुछ तो याद करो |

10 comments:

  1. बहुत सुंदर...कॉलेज जीवन की यादों को फ़िर से ताज़ा कर दिया..

    ReplyDelete
  2. ये उम्दा पोस्ट पढ़कर बहुत सुखद लगा!
    प्रेम दिवस की बधाई हो!

    ReplyDelete
  3. याद करने को कहते हुये काफी कुछ याद कर लिया ॥

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत खूब ....पुरानी यादे ताज़ा हो गई

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी बात कही है...गज़ब

    नीरज

    ReplyDelete
  6. पुरानी यादों को ताजा कर दिया...
    बहुत अच्छी रचना,सुंदर प्रस्तुति

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    ReplyDelete
  7. बहुत ही भाव प्रवण कविता । .मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  8. बहुत उम्दा ! पहली बार आप के ब्लॉग पर आना हुआ,बढिया ब्लॉग है आप का,बधाई.....

    ReplyDelete
  9. वाह!!!!!!बहुत सुंदर रचना,अच्छी प्रस्तुति,..

    MY RECENT POST...फुहार....: दो क्षणिकाऐ,...
    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप