मेरे साथी:-

Thursday, January 19, 2012

परी मेरी अब सोयेगी


रात ये कितनी बाकि है,
पुछ रहा हूँ तारों से;
पवन सुखद बनाने को,
अब कहता हूँ बहारों से ।

चाँद को ही बुलाया है,
निद्रासन मंगवाया है;
परी मेरी अब सोयेगी,
भँवरों से लोरी गवाया है ।

डैडी की सुन्दर गुड़िया है,
मम्मी की जान की पुड़िया है;
क्यों रात को पहरा देती है,
ज्यों सबकी दादी बुढ़िया है ।

स्वयं पुष्पराज ही आयेंगे,
खुशबू मधुर फैलायेंगे;
निद्रादेवी संग चाकर लाकर,
मिल गोद में सब सुलायेंगे ।

परी मेरी न रोयेगी,
परी मेरी अब सोयेगी ।

20 comments:

  1. bahut pyaari lori ki tarah kavita.bahut sundar bhaav.

    ReplyDelete
  2. सपनों में चन्दा के गाँव जाएगी , परियों के संग खेलेगी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद |

      Delete
  3. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  4. बहुत प्यारी कविता

    परी बेटी सी प्यारी और दुलारी भी

    ReplyDelete
  5. कमाल की प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद अमृता जी |

      Delete
  6. घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहाँ, कोई नहीं प्रपंच।।
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (Friday) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार शास्त्री जी |

      Delete
  7. bahut pyari lori..
    bachpan ki yaad aayee..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका धन्यवाद कविता जी |

      Delete
  8. बहुत ही खुबसूरत
    और कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका धन्यवाद सुषमा जी |

      Delete
  9. कोमल भावों से सजी सुंदर रचना ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार पल्लवी जी | यूँही आती रहें ब्लॉग में |

      Delete
  10. बहूत- बहूत, बहूत हि प्यारी कविता है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रीना जी | ब्लॉग में आना जारी रखे |

      Delete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप