मेरे साथी:-

Wednesday, October 12, 2011

"पेड़ लगाओ, देश बचाओ !!"


"पेड़ लगाओ, देश बचाओ !!"

बहुत पुराना है नारा ;

हकीकतन इससे सबने

पर कर लिया किनारा |



वो औद्योगीकरण के नाम पे,

जंगल के जंगल उड़ाते हैं;

पेड़ काट के नई इमारतों का,

अधिकार दिए जाते हैं |



नीति कुछ ऐसी है-

"जंगल हटाओ, विकास रचाओ !" 

पर कहते हैं जनता से,

"पेड़ लगाओ, देश बचाओ !!"

13 comments:

  1. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति, बधाई

    ReplyDelete
  2. अच्छी प्रस्तुति!
    अरे भैय्या जी कितनी जगह लगा दी आपने यह पोस्ट?

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति |
    हमारी बधाई स्वीकारें ||

    neemnimbouri.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद शुक्ला जी | आभार |

    ReplyDelete
  5. शास्त्री जी आभार | एक जगह ज्यादा पाठक आते नहीं इसलिए ज्यादा जगह लगा दिया | 2-3 भी आयेंगे एक जगह तो कुल 10 से ज्यादा हो जायेंगे |

    ReplyDelete
  6. रविकर जी धन्यवाद |

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर कविता है...सुंदर सन्देश लिए ....

    ReplyDelete
  8. भाव शानदार हैं. करारा प्रहार है.

    दुनाली पर आएं, आपका स्‍वागत है-
    पिगविजय की चिट्ठी पहुंची भालेगण सिद्धी

    ReplyDelete
  9. चैतन्य जी आभार | इसी तरह ब्लॉग में आते रहें |

    ReplyDelete
  10. नीरज जी धन्यवाद |

    ReplyDelete
  11. M.Singh जी धन्यवाद |

    ReplyDelete
  12. प्रदीप कुमार जी, बहुत ही सुंदर प्रस्तुति, "पेड़ लगाओ, देश बचाओ !!" यही नारा हर किसी ने अपने जीवन में अंगीकार करना होंगा. तभी हम सब चैन की साँस ले पाएंगें.

    ReplyDelete

कृपया अपनी टिप्पणी दें और उचित राय दें | आपके हर एक शब्द के लिए तहेदिल से धन्यवाद |
यहाँ भी पधारें:-"काव्य का संसार"

हिंदी में लिखिए:

संपर्क करें:-->

E-mail Id:
pradip_kumar110@yahoo.com

Mobile number:
09006757417

धन्यवाद ज्ञापन

"मेरा काव्य-पिटारा" ब्लॉग में आयें और मेरी कविताओं को पढ़ें |

आपसे निवेदन है कि जो भी आपकी इच्छा हो आप टिप्पणी के रूप में बतायें |

यह बताएं कि आपको मेरी कवितायेँ कैसी लगी और अगर आपको कोई त्रुटी नजर आती है तो वो भी अवश्य बतायें |

आपकी कोई भी राय मेरे लिए महत्वपूर्ण होगा |

मेरे ब्लॉग पे आने के लिए आपका धन्यवाद |

-प्रदीप